चंचलता मिटाओ, सफलता पाओ

एकाग्रता सभी क्षेत्रों में सफलता की जननी, कुंजी है । यह एक अद्भुत शक्ति है । धु्रव और प्रह्लाद की सफलता में भी एकाग्रता एक कारण थी । हस्त-चांचल्य, नेत्र-चांचल्य, वाणी-चांचल्य और पाद-चांचल्य - ये चार प्रकार की जो चंचलताएँ हैं वे एकाग्रता में बड़ा विघ्न करती हैं ।

(1) हस्त-चांचल्य : हस्त-चांचल्य माने हाथ को अनावश्यक ही कभी किधर लगायेंगे - कभी किधर घुमायेंगे, कभी तिनका तोड़ेंगे, कभी कान में उँगली डालेंगे, कोई विद्यार्थी बैठा होगा तो उसको पीछे से टपली मारेंगे तो कभी कुछ करेंगे । बैठे हैं तो चटाई या तिनके तोड़ेंगे, इधर-उधर हाथ लगायेंगे । यह मन-बुद्धि को कमजोर करेगा । कई लोग नाक में उँगली डालते रहते हैं और कुछ मिल गया तो उँगली से घुमाते रहेंगे, घुमाते रहेंगे । बातचीत करेंगे, खायेंगे-पियेंगे और उसे घुमाते भी रहेंगे । घुमाते-घुमाते उसे देखेंगे फिर फेंक देंगे ।

बैठे-बैठे कान कुरेदेंगे, इधर-उधर खुजलायेंगे, फिर कुछ भी उठाकर खा लेंगे । छी... गंदा ! इससे बुद्धि भ्रष्ट होती है । यह बिनजरूरी है । हाथ भी गंदे हुए, समय भी खराब हुआ, मन व्यर्थ की चेष्टा में लगा ।

(2) नेत्र-चांचल्य : कइयों को नेत्र-चांचल्य होता है । बंदर की तरह इधर-उधर आँखें घुमाते हैं । इससे शक्ति का ह्रास होता है । जो जितना ठग होता है, चोर दिमाग का होता है, उसकी आँखें उतनी ही चंचल होती हैं ।

(3) वाणी-चांचल्य : कुछ लोग बोलते-बोलते फालतू के वचन बहुत बोलते हैं । मैंने कहा था जो है सो लेकिन यह माना नहीं जो है सो ।अगर, मगर, लेकिन जैसे शब्द आवश्यकता न होने पर भी बोलते रहेंगे । उनकी आदत बन जाती हैै । मैं आपके घर गया था, समझे ! पर आप मिले नहीं, समझे ! मैंने थोड़ी देर इंतजार किया, समझे ! फिर मैंने सोचा कि मुझे जाना है, समझे !अब समझे-समझे...क्या है ? आदमी बिल्कुल नपा-तुला, कटोकट, सारगर्भित बोले; बिनजरूरी शब्द न डाले - यह बुद्धिमानी है । बात लम्बी करते हैं तो सामनेवाला ऊब जाता है । प्रसंगोचित बोलना चाहिए । चलते-चलते बोलने से, जोर से बोलने से जीवनीशक्ति का ह्रास होता है । छांदोग्य उपनिषद्में आता है कि आहार में जो अग्नि तत्त्व होता है उसके स्थूल अंश से अस्थियाँ, मध्यम अंश से मज्जा और सूक्ष्म अंश से वाणी बनती है । इसलिए कम बोलिये, सारगर्भित बोलिये, वाणी का व्यय न करें ।

ऐेसी वाणी बोलिये, मन का आपा खोय ।

औरन को शीतल करे, आपहुँ शीतल होय ।।

(4) पाद-चांचल्य : कुछ लोग बैठे-बैठे पैर हिलाते हैं, शांति से नहीं बैठेंगे । यह तुच्छ मनुष्य की पहचान है । यह चांचल्य मिटते ही जो शक्ति नष्ट हो रही है वह शक्तिदाता (परमात्मा) में विश्राम पाने में लगेगी । मन के संकल्प-विकल्प कम होंगे तो बुद्धि पर दबाव कम पड़ेगा और बुद्धि पर दबाव कम पड़ने से भगवान को अपना माननेवाली बुद्धि का बुद्धियोग होने लगेगा ।

इन चार प्रकार की चंचलताओं में जो जितना संयमी हो जाय, उतना वह तेजस्वी विद्यार्थी होगा, उतना तेजस्वी उद्योगपति होगा, उतना तेजस्वी अफसर होगा, उतना तेजस्वी समाज का आगेवान होगा, अगर वह संत बनता है तो उतना ही तेजस्वी उनका संतत्व होगा ।

चंचलता मिटाने का उपाय

चंचलता-निवारण करने का अपना विचार होता है तो आदमी बहुत ऊँचा उठ जाता है ।

चंचलता ध्यान के द्वारा कम होती है । लम्बा श्वास लेकर दीर्घ प्रणव (ॐकार) का जप करो । जितना समय उच्चारण में लगे उतनी देर शांत हो जाओ । आप अपने शुद्ध ज्ञान में स्थित होंगे तो चारों प्रकार की चंचलता आसानी से मिट जायेगी, उससे होनेवाली शक्तियों का ह्रास रुक जायेगा ।

10 से 12 मिनट तक ॐकार गुंजन करने तथा ॐकार मंत्र का अर्थसहित ध्यान करने से हारे को हिम्मत, थके को विश्रांति मिलती है, भूले को अंतरात्मा मार्गदर्शन करता है । विद्युत का कुचालक आसन बिछा दे, 10-15 मिनट तक ध्यान करे और एकटक भगवान या गुरु की प्रतिमा अथवा ॐकार को देखता जाय तो साधारण-से-साधारण व्यक्ति भी इन चंचलताओं से ऊपर उठ जायेगा । बात को खींच-खींचकर लम्बी करने की गंदी आदत छूट जायेगी । मधुर वाणी, सत्य वाणी, हितकर वाणी जैसे सद्गुण स्वाभाविक उत्पन्न होने लगेंगे ।

यह प्रयोग करने से चारों प्रकार की चंचलताएँ छूट जायेंगी; व्यसन छोड़ने नहीं पड़ेंगे, अपने-आप भाग जायेंगे । चिंता भगाने के लिए कोई दूसरे नये उपाय नहीं करने पड़ेंगे । बुद्धिदाता की कृपा हो तो अल्प बुद्धिवाला भी अच्छी बुद्धि का धनी हो जायेगा ।