चित्त में आत्मप्रसाद स्थिर करने में सहायक रात्रि

शरद पूनम को चन्द्रमा पृथ्वी के विशेष निकट होता है और बारिश के महीनों के बाद खुले आकाश में चन्द्रमा दिखे तो चित्त विशेष आह्लादित होता है । यह धवल (श्वेत) उत्सव है । अपना अंतःकरण प्राकृतिक पदार्थों को सत्य मानकर मलिन न हो बल्कि जो सत्यस्वरूप सबमें चमक रहा है उसकी स्मृति करके श्वेत हो, शुद्ध हो ।’ - ऐसा संकल्प करना चाहिए । जैसे श्वेत वस्त्र पर ठीक से रंग लग जाता है ऐसे ही श्वेत अंतःकरण, शुद्ध अंतःकरण पर परमात्मबोध का रंग लग जाता है और व्यक्ति निर्लेप तत्त्व में ठहर जाता है । अपना चित्त इतना श्वेत करो कि आईने जैसा हो, कैमरे जैसा नहीं । कैमरा जो देखेगा वह अंदर भर लेगा लेकिन आईना जो देखेगा अंदर कुछ नहीं रखेगा, वापस कर देगा, वैसा ही दिखा देगा । ब्रह्मज्ञानी के चित्त और साधारण व्यक्ति के चित्त में इतना फर्क है कि साधारण व्यक्ति का चित्त कैमरे जैसा और ब्रह्मज्ञानी का चित्त आईने जैसा होता है । इसलिए ब्रह्मज्ञानी महापुरुष आनंदित व निर्भीक रहते हैं क्योंकि उनके चित्त पर कोई लेप नहीं लगता ।

शरद पूनम को चन्द्रमा से मानो अमृत टपकता है, जीवनीशक्ति के पोषक अंश टपकते हैं । रात्रि 12 बजे तक चन्द्रमा की पुष्टिदायक किरणें अधिक पड़ती हैं । अतः इस दिन चावल की खीर अथवा दूध में पोहे, मिश्री, थोड़ी इलायची व काली मिर्च आदि मिलाकर चन्द्रमा की चाँदनी में रख के 12 बजे के बाद खाना चाहिए ।

शरद पूनम को पंचश्वेती उत्सवभी कहते हैं । दूध श्वेत, चावल श्वेत, मिश्री श्वेत, चौथा श्वेत चन्द्रमा की किरणें पड़ें और पाँचवाँ श्वेत सूती वस्त्र से ढक दें । हो सके तो सफेद चाँदी के गहने या बर्तन डाल सकते हैं । इससे आपकी सप्तधातुओं पर विशेष सात्त्विक प्रभाव पड़ता है । भगवान का आध्यात्मिक तेज चन्द्रमा के द्वारा आज के दिन अधिक बरसा है और वे ही भगवान हमारे तन-मन-मति को पुष्ट रखें ताकि हम गलत जगहों से बचने में सफल हों, रोग-बीमारियों से बच जायें और हमारी रोगप्रतिकारक शक्ति के साथ विकार-प्रतिकारक शक्ति का भी विकास हो ।’ - ऐसा चिंतन करके जो खीर या दूध-पोहा खाता है, वर्षभर उसका तन-मन तंदुरुस्त रहता है । मैं तो हर साल खाता हूँ ।

दशहरे से शरद पूनम तक चन्द्रमा की चाँदनी में विशेष हितकारी किरणें होती हैं । इन दिनों चन्द्रमा की तरफ देखते हुए एकाध मिनट आँखें मिचकाना, बाद में जितना एकटक देख सकें देखना । फिर श्वासोच्छ्वास को गिनना अथवा ऐसी भावना करना कि चन्द्रमा की शीतल अमृतमय शांतिदायी, आरोग्यदायी, पुण्यदायी किरणें हम पर बरस रही हैं । जैसे गुरुदेव हमारे आत्मदेव हैं वैसे ही चन्द्रमा भी हमारे आत्मस्वरूप हैं, सुख व आनंद देनेवाले, औषधि पुष्ट करनेवाले हैं, वे हमारा मन भी पुष्ट करें । शरद पूर्णिमा हमारे जीवन को पूर्ण परमेश्वर की तरफ ले जाय, हमारे चित्त में शीतलता लाये, सुख-दुःख में सम रहने की क्षमता लाये । लाभ-हानि, जय-पराजय, जीवन-मृत्यु - ये सब माया में हो रहे हैं लेकिन मुझ चैतन्य का कुछ नहीं बिगड़ता, इस प्रकार की आत्मनिष्ठावाली हमारी स्थिति लाये । जैसे ज्ञानवानों के चित्त में आत्मप्रसाद स्थिर रहता है, ऐसे ही हम भी अपने चित्त में आत्मप्रसाद स्थिर करें ।